basic sum assured किसको कहते है? | basic sum assured meaning in hindi

एलआईसी से जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी पाने के लिए हमसे जुड़े।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

Basic Sum Assured Meaning in Hindi- जब भी हम किसी तरह की बीमा पॉलिसी खरीदते हैं, तो उसमें हमें कुछ अलग अलग Sum Assured देखने को मिलते हैं। जैसे- डेथ सम एश्योर्ड, बेसिक सम एश्योर्ड, मेच्योरिटी सम एश्योर्ड, इत्यादि। इनमें से सभी पॉलिसीधारक को Basic Sum Assured Meaning in Hindi के बारे में जरूर पता होना चाहिए। परंतु कई पॉलिसीधारक को बेसिक सम एश्योर्ड के बारे में जानकारी नहीं है।

इसलिए आज का यह लेख उन लोगों के लिए सबसे ज्यादा उपयोगी होगा, जो Sum Assured के बारे में जानकारी पाना चाहते हैं। आज के इस लेख में हम Basic Sum Assured Meaning in Hindi के बारे में विस्तारपूर्वक जानने वाले हैं।

बेसिक सम एश्योर्ड क्या होता है? | Basic Sum Assured Meaning in Hindi

बेसिक सम एश्योर्ड को हिंदी में मूल बीमा राशि कहते हैं। जो इंश्योरेंस कवर की वह वैल्यू है, जिसे पॉलिसीधारक बीमा खरीदते समय तय करता है। यह गारंटीकृत राशि होती है, जो पॉलिसीधारक को या उसके Nominee को मिलती है। इसमे आप चाहे तो पॉलिसी के नॉमिनी को चेंज करवा सकते है।

Basic Sum Assured वह राशि होती है जिसे हम इंश्योरेंस कराते समय खरीदते हैं। मूल रूप से हम इंश्योरेंस कराते समय Sum Assured ही खरीदते हैं। क्योंकि Sum Assured राशि के आधार पर ही प्रीमियम राशि की गणना की जाती है।

Basic Sum Assured वह राशि होती है, जो किसी भी कंपनी द्वारा आपको या आपके Nominee को प्रदान किया जाता है। इसके साथ ही यह राशि किसी भी पॉलिसीधारक को तब दी जाती है, जब उसकी पॉलिसी Mature हो गई हो या पॉलिसीधारक ने अपना इंश्योरेंस Claim किया हो।

इसे भी पढे:
> बंद पड़ी एलआईसी पॉलिसी को चालू कैसे करे।
> एलआईसी का मट्युरिटी फॉर्म कैसे भरे।

बेसिक सम एश्योर्ड की गणना कैसे की जाती है? | How to calculate Basic Sum Assured

बेसिक Sum Assured की गणना करते समय कई चीजों का ध्यान दिया जाता है। जैसे –

  1. अधिकतम बीमा राशि के तौर पर कोई भी कंपनी आपके सालाना इनकम के 10 गुना तक की रकम रखने की अनुमति देती है।
  1. सेक्शन 80c के तहत यह कहा गया है कि यदि आप टैक्स बेनिफिट पाना चाहते हैं तो आपकी Sum Assured की राशि सालाना प्रीमियम का 10 गुना होना चाहिए। तब आपको पॉलिसी के मैच्योर होने पर जो राशि मिलती है वह टैक्स फ्री होती है।
  1. इसके अलावा बीमा राशि इस बात पर भी निर्भर करती है कि पॉलिसीधारक की अनुपस्थिति में सम एश्योर्ड की राशि आपके परिवार वालों के लिए आर्थिक रूप से पर्याप्त हो। और उनकी वित्तीय जरूरतों को पूरा कर पाए।

निष्कर्ष | Conclusion

आज के इस लेख में हमने आपको Basic Sum Assured Meaning in Hindi के बारे में जानकारी दी। उम्मीद है कि इस लेख के माध्यम से आपको Basic Sum Assured के बारे में पता चल पाया होगा। यदि आपके लिए यह लेख उपयोगी साबित हुआ हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें।

FAQ’s

1. प्रश्न – सम एश्योर्ड और सम इंश्योर्ड में क्या अंतर है?

उत्तर – सम एश्योर्ड वह राशि होती है जो केवल बीमा पॉलिसियों के लिए लागू किया जाता है और गारंटीकृत वापस किया जाता है। इसके विपरीत सम इंश्योर्ड वह राशि होती है, जो गैर जीवन बीमा योजनाओं के लिए भी लागू होती है और केवल किसी चीज की क्षतिपूर्ति होने पर ही दे होती है।

2. प्रश्न – क्या मुझे मैच्योरिटी पर सम एश्योर्ड मिलेगा?

उत्तर – जी हां जब आप की पॉलिसी मेच्योर हो जाती है तो आपको सम एश्योर्ड की राशि मिलती है।

3. प्रश्न – डेथ सम एश्योर्ड और बेसिक सम एश्योर्ड में क्या अंतर है?

उत्तर – डेथ सम एश्योर्ड वह राशि होती है जो पॉलिसीधारक की मृत्यु पर उसके Nominee को दी जाती है। यह राशि कम या अधिक भी हो सकती है। बेसिक समय और वह राशि होती है, जो पॉलिसीधारक को पॉलिसी Mature होने पर दी जाती है और यह परिवर्तित होती है।

4. प्रश्न – जीवन बीमा में जोखिम पर राशि क्या है?

उत्तर – जीवन बीमा में जोखिम पर राशि को ही डेथ सम एश्योर्ड कहते हैं।

एलआईसी से जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी पाने के लिए हमसे जुड़े।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

Agent सहायता

Agent सहायता मे आपका स्वागत है मेरे एजेंट दोस्तों और भाइयो !! इस ब्लॉग मे हम आपको भारतीय जीवन बीमा निगम से जुड़े हर सवालों और समस्याओ का हल देने की कोशिश करते है। जैसे की नई प्लान के बारे मे, फॉर्म कैसे भरे, फॉर्म डाउनलोड कैसे करे, प्रीमियम कैल्क्यलैट कैसे करे। अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमारे Telegram चैनल को जरूर जॉइन करे।

Leave a Comment